Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : आरोपी ने खोला हत्या का राज, ऐसे की थी पवन की हत्या

बलिया। उभांव थाना पुलिस ने पवन राजभर हत्याकांड के आरोपी को गिरफ्तार करते हुए न्यायालय चालान कर दिया। वहीं हत्या में प्रयुक्त मृतक का टीशर्ट बरामद करते हुए एक जोड़ी चप्पल औार आधार कार्ड अपने कब्जे में ले लिया। पुलिस ने मुखबिर की सूचना पर साइकिल से तुर्तीपार के रास्ते भागलपुर होते हुए बिहार भाग रहे हत्यारोपी को दबोच लिया। पूछताछ में अभियुक्त ने अपना नाम व पता हिमांशु यादव निवासी भदौरा तरछापार थाना उभांव जनपद बलिया बताया।

आरोपी ने खोला हत्या का राज
पुलिस द्वारा पूछताछ में अभियुक्त ने बताया कि मैं अपने ही गांव की एक लड़की से विगत 10 वर्षाे से प्यार करता हूं तथा हम लोग रिलेशनशिप में रहते थे। लड़की का पिता उसे डूहा बिहरा थाना सिकन्दरपुर बलिया पहुंचा दिया। शुक्रवार को डूहा बिहरा से लड़की मेरे घर आई और मेरा मोबाइल छीना और मेरी पत्नी से मुझसे अपना रिलेशनशिप होने की बात बताकर पुनः डूहा बिहरा मठिया चली गयी। जिससे नाराज होकर मैं प्रेमिका के पैतृक गांव डूहा बिहरा जाकर जबरन मोबाइल छिनकर आ रहा था कि उसके द्वारा विरोध करने पर मैंने उसे धक्का देकर गिरा दिया और मैं चला आया। शुक्रवार की शाम मैं कुण्डैल ढाला साईकिल से आ रहा था कि प्रेमिका का भाई पवन राजभर 11 वर्ष तेंदुहारी में मिल गया। जिसे हम बहला फुसला कर अपने साथ लेकर तुर्तीपार पहुंचकर महादेव चाट भण्डार से छोला पैक कराया। मैंने विशुनपुरा चट्टी पर जाकर देशी शराब की 02 शीशी खरीदा और चन्दायर कला ग्रामीण मार्ग के पुलिया पर बैठकर पवन को शराब पिलाया और चाट खिलाया। गर्मी व पसीना से तंग आकर पवन राजभर ने अपना टी-शर्ट निकालकर हाथ में ले लिया और नशे में होकर गांव की तरफ जाने लगा, तभी सड़क से निचे खेत में जाकर अचेत होकर सो गया। तभी मुझे अपनी प्रेमिका के प्रति ख्याल आया और मेरी पत्नी की भी याद आयी। इसके बाद मेरे दिमाग में आया कि पवन राजभर सुनसान स्थान पर अचेत अवस्था में सोया हुआ है, क्यों न इसकी हत्या कर दी जाय, तब उसकी बहन ( प्रेमिका) पुनः मेरे गांव चली आयेगी। ततपश्चात मैंने पवन राजभर के आसमानी टी-शर्ट से उसका गला कस दिया। वह काफी छटपटाने लगा और मुंह से आवाज करने लगा। उसके शेष बचे टी-शर्ट से उसका मुंह दबा दिया तथा घुटने से उसका सीना दबाकर तब तक टी-शर्ट को खिचे रहा जब तक उसकी जान नहीं निकल गयी। मृतक पवन के पिता नागेन्द्र व भाई शनि द्वारा मेरे विरूद्ध नामजद मुकदमा पंजीकृत कराया गया। जिससे बचने के लिए मैं बिहार भाग रहा था कि पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

गिरफ्तार करने वाली टीम में ये रहे शामिल
गिरफ्तारी करने वाली टीम में उभांव इंस्पेक्टर विपिन सिंह, उनि पंकज कुमार सिंह, उनि राकेश यादव, का इन्द्रेश वर्मा, का धनन्जय माझी, का प्रमोद चौरसिया, का वेद प्रकाश यादव आदि रहे।

Jamuna college
Gyan kunj
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *