Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : आठ बार सांसद और देश के आठवें प्रधानमंत्री बने थे चंद्रशेखर

निधन के तीन साल बाद नीरज को मिली राजनीतिक विरासत
बलिया से रोशन जायसवाल की एक रिपोर्ट,
बलिया।
बलिया के राजनीतिक इतिहास में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर जी ने 1977 में पहली बार लोकसभा का चुनाव में जीत दर्ज करायी थी। उस समय 1.67 लाख वोट से जीते थे। अपने बागी तेवर के लिये मशहूर पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के कारण पूर्वांचल ही नहीं देश में बलिया संसदीय सीट हाट सीट के रूप में जानी जाती है। 2007 में पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर के निधन के बाद उनके छोटे पुत्र नीरज शेखर ने राजनीतिक विरासत संभाल ली।

एक कार्यक्रम को संबोधित करते पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर जी। फाइल फोटो।

चंद्रशेखर जब तक सियासत में सक्रिय रहे, हर चुनाव में पूरे देश की नजर बलिया पर टिकी रहती थी। एक समय ऐसा भी आया जब बलिया में लोकसभा चुनाव था और चंद्रशेखर जी भी चुनाव के दौरान बलिया में थे। 2004 के लोकसभा चुनाव में तारीख 17 अप्रैल आया, उस तारीख को पूर्व प्रधानमंत्री बीपी सिंह नहीं भूले और चंद्रशेखर जी से मिलने के लिये दिल्ली से बलिया आ गये। वह शुभ अवसर था चंद्रशेखर जी के जन्मदिन का। 17 अप्रैल 2004 को पूरी झोपड़ी गुलजार था। चंद्रशेखर नगर देश में छा गया क्योंकि उस दिन भारत के दो पूर्व प्रधानमंत्री बागियों की धरती पर बलिया में थे। चुनावी दौर में उस दिन चंद्रशेखर जी क्षेत्र में न जाकर पूरे समय वह चंद्रशेखर नगर झोपड़ी पर ही रहे। शाम ढली उसके बाद चंद्रशेखर जी पूर्व प्रधानमंत्री बीपी सिंह को छोड़ने बलिया रेलवे स्टेशन पर पहुंच गये। देश की मीडिया की निगाह चंद्रशेखर के बलिया पर रही। बलिया संसदीय क्षेत्र का आठ बार प्रतिनिधित्व करने वाले चंद्रशेखर जी के नाम एक रिकार्ड है।

चंद्रशेखर जी की पार्टी समाजवादी जनता पार्टी के जुलूस में जुटी भीड़। फाइल फोटो।

वैसे बलिया के प्रथम सांसद के रूप में शिक्षाविद मुरली मनोहर रहे 6431 मतों से जीत दर्ज करायी थी। उन्होंने प्रख्यात शिक्षाविद पंडित मदन मोहन मालवीय के सबसे छोटे पुत्र एवं कांग्रेस के गोविंद मालवीय को 6431 मतों से हराया था। उस समय कुल वोटरों की संख्या मात्र तीन लाख 68 हजार 287 थी। इसमें एक लाख 26 हजार 480 कुल 34 प्रतिशत मत पोल हुए थे। पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर जी बलिया के आठ बार सांसद रहे है और 10 नवंबर 1990 में भारत के आठवें प्रधानमंत्री बने और लगभग छह माह तक प्रधानमंत्री बने रहे। जेपी आंदोलन में कांग्रेस से नाता तोड़ने के बाद चंद्रशेखर जी ने अपना पहला चुनाव 1977 में भारतीय लोकदल के बैनर तले बलिया लोकसभा क्षेत्र से लड़े थे। उस समय उनके सामने कांग्रेस के चंद्रिका प्रसाद थे। उस समय चंद्रशेखर को कुल पड़े वैध मतों का 71 प्रतिशत मत मिले थे। 2,64162 मत पाकर चंद्रशेखर ने कालिका प्रसाद को हराया था।

इनसेट
बलिया के लोकप्रिय सांसद और भारत के पूर्व प्रधानमंत्री चंद्रशेखर जी बलिया के आठ बार सांसद के रूप में दिल्ली पहुंचते रहे। लगातार चुनाव में एक बार वह 1984 में जगन्नाथ चौधरी से चुनाव हारे थे। 1984 के बाद चंद्रशेखर जी 1989, 1991, 1996, 1998, 1999 और 2004 में लगातार सांसद रहे। उसके पूर्व चंद्रशेखर जी 1977 और 1980 में भी बलिया के सांसद रहे।

Jamuna college
Gyan kunj
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *