Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : तीन वर्ष से नपा कार्यालय का चक्कर लगा रहा परिवार


बार-बार आवेदन देने के बाद भी प्रापर्टी रजिस्टर में नहीं दर्ज हो रहा नाम
बलिया।
नगर पालिका परिषद बलिया लाख दावा कर ले कि जनता को प्रापर्टी रजिस्टर में नाम दर्ज कराने के लिए किसी को परेशान नहीं होना पड़ेगा, लेकिन यहां हकीकत कुछ और है। कई वर्षों से दाखिल खारिज के नाम पर जनता को परेशान करना और उनको बार-बार नगर पालिका कार्यालय में आने के लिए मजबूर किया जा रहा है। यह इनकी आदत में शुमार हो गया है। मंगलवार को जगदीशपुर पानी टंकी रोड निवासी मनोरमा देवी पत्नी स्व. चुनमुन राम और उनके बड़े पुत्र मनोज कुमार नगर पालिका कार्यालय पहुंचे। जब यहां से कोई बात नहीं बनी तो वह उसकी शिकायत लेकर डीएम से मिले और अपनी फरियाद सुनाई। उसके बाद अधिशासी अधिकारी सुभाष कुमार को पूरी स्थिति से अवगत कराया। मनोज कुमार ने बताया कि 5 फरवरी 2021 को पिताजी का निधन हो गया था। उसके बाद मनोज कुमार एवं अर्जुन कुमार ने प्रापर्टी रजिस्टर में नाम दर्ज करवाने के लिए आवेदन किया था, लेकिन उनका नाम अभी तक दर्ज नहीं हो सका है। इसको लेकर वह तीन वर्षों में 40 से 50 बार का कार्यालय का चक्कर लगा चुके है। इसके बावजूद भी उनका एवं माता जी का नाम नहीं चढ़ पाया है। इसको लेकर आवेदक काफी परेशान है।

कहीं विपक्षी पार्टी से सांठगांठ तो नहीं
बलिया। मामला जो भी हो, लेकिन कहीं न कहीं विपक्षी पार्टी से नपा के एक बाबू का सांठगांठ जरूर है। क्योंकि वह विपक्षी पार्टी के घर आते-जाते है। इससे यह संदेह हो रहा है कि नपा का एक बाबू विपक्ष से सांठगांठ बनाया हुआ है। मनोज कुमार ने बताया कि विपक्षी पार्टी मेरे बुआ का दामाद चंद्रकांता प्रसाद है, जो मूलतः बनारस का निवासी है। वह मेरे प्रापर्टी रजिस्टर में नाम दर्ज न हो, इसको लेकर साजिश रच रहा है। इसमें नगर पालिका के एक बाबू की मिलीभगत है।

सुलह समझौता का दबाव बनाने लगा बाबू
बलिया।
स्व. चुनमुन राम जिला सम्परीक्षा अधिकारी थे। उनके दो संतान मनोज कुमार व अर्जुन कुमार है। यह जानकारी नपा के बाबूओं व कर्मचारियों को पूरी तरह से है। क्योंकि उनका घर नगर पालिका कालोनी से कुछ दूर पर है। इसके बाद भी नपा के बाबू व कर्मचारी चुनमुन राम के बच्चों को न्याय नहीं दिलवा पा रहे है। उसमें से एक बाबू विपक्षी पार्टी से सांठगांठ बनाया हुआ है। यहीं नहीं, नपा का एक बाबू मनोज कुमार पर सुलह समझौता का दबाव भी बनाने लगा।

Jamuna college
Gyan kunj
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *