Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : आधुनिकता की बढ़ती चकाचौंध से नदी के अस्तित्व पर मंडरा रहा खतरा : रमाशंकर तिवारी


बलिया।
पर्यावरण के सवाल पर गंगा की सुरक्षा के लिए सम्पूर्ण क्रांति की दरकार है। देश एवं दुनिया में आधुनिकता की बढ़ती अनवरत चकाचौंध के कारण नदी सभयता के अस्तित्व पर ही गम्भीर खतरा मंडरा रहा है। उक्त बातें आध्यात्मिक चिंतन संस्थान के उदयपुरा स्थित कैम्प कार्यालय पर गंगा मुक्ति अभियान की मासिक समीक्षा बैठक में गंगा मुक्ति एवं प्रदूषण विरोधी अभियान के राष्ट्रीय प्रभारी रमाशंकर तिवारी ने गुरूवार को कही। उन्होंने कहा कि गंगा सांस्कृतिक धरोहर है भौतिक जरूरतों का संसाधन नहीं है। नदियां ब्रम्ह्ाण्ड की नाड़ियां है, जो मानवीय हरकतों के कारण जगह-जगह क्षतिग्रस्त होकर जीवन को असंतुलित कर रही है। कहा कि गंगा जल की गुणवत्ता सुधारने के लिए अभी तक प्रासंगिक पहल नहीं हो रही है। तमाम कोशिशों के बावजूद ईमानदार तंत्र के अभाव में गंगा दम तोड़ रही है। अध्यक्षता भैया लल्लू सिंह तथा संचालन डॉ. हरेन्द्र यादव ने किया। इस अवसर पर डॉ. कमलाकर तिवारी, डॉ. अवधेश सिंह, रामेश्वर ठाकुर, कृषि कुमार, सत्येन्द्र प्रजापति, मनीष कुमार सिंह, सहित कई गंगा भक्त उपस्थित रहे।

Jamuna college
Gyan kunj
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *