Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : प्राइवेट अस्पताल में प्रसूता की मौत पर परिजनों का जमकर हंगामा

शिवानंद वागले,
रसड़ा (बलिया)।
नगर के कोटवारी मोड़ स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में प्रसूता की मौत पर परिजनों ने अस्पताल में जम कर हंगामा काटा। सूचना पर पहुंची कोतवाली पुलिस ने परिजनों को समझाने बुझाने के बाद अस्पताल कर्मियों के विरुद्ध तहरीर ले लिया। वहीं तहरीर पर आवश्यक कार्रवाई का आश्वसन देकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के भेज दिया।

कोतवाली क्षेत्र के मंदा निवासी आत्मा यादव की पत्नी सीमा यादव (25 वर्ष) प्रसव पीड़ा होने पर शुक्रवार की सुबह अहिरपुरा स्थित एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां उसने दो बच्चियों को जन्म दिया। दोपहर के बाद प्रसूता की हालत गंभीर होने पर चिकित्सक ने परिजनों से आपरेशन करने को कहा। परिजनों की ऑपरेशन की सहमती के बाद आपरेशन किया गया। आपरेशन के बाद महिला की हालत गंभीर होने पर चिकित्सक परिजनों के साथ उसे मऊ ले गए। मऊ में महिला की स्थिति और गंभीर होने पर उसे वाराणसी के लिए रेफर किया गया जहां महिला ने रास्ते में ही दम तोड दिया।

इससे परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया। जानकारी होते ही पुलिस मौके पर पहुंच गयी और परिजनों से तहरीर लेकर आवश्यक काररवाई का आश्वासन दिया। तब जाकर परिजनों का आक्रोश शांत हुआ। पुलिस ने शव को कब्जे में ले लिया है।

भोले-भाले लोगों पर झोलाछाप और प्राइवेट अस्पतालों का काला साया
बताते चले कि इस समय रसड़ा कस्बा से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में प्राइवेट नर्सिंग होम झोलाछाप डॉक्टरों का कुकुर कुत्ते की तरह डिस्पेंसरी और नर्सिंग होम खोल कर बैठ गए हैं। आए दिन उनके द्वारा गरीबों और कम पढ़े-लिखों को अनाप-शनाप दवा देकर पैसा ऐंठने लगे हैं जब उनकी हालत गंभीर बन जा रही है तो मरीजों से धीरे से जांच के नाम पर अपने यहां से रफू चक्कर कर दे रहे हैं। जब पीड़ित गांव छोड़कर जब बाहर इलाज के लिए जाता है तो पता चलता है कि उनकी किडनी या लीवर ही डैमेज हो गई बहुत लोग तो बाहर इलाज करते करते मर जा रहे हैं।

स्वास्थ्य विभाग इस समय प्राइवेट नर्सिंग होमो से धन उगाई का कार्यक्रम चल रहा है और आंख बंद कर कान में तेल डालकर स्वास्थ्य विभाग सो रहा है। व्यापारी नेता बनारसी प्रसाद वर्मा उत्तर प्रदेश सरकार से मांग किया है कि झोलाछाप और नर्सिंग होमो पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए जहां गरीब और असहाय का आए दिन मौत हो रही है, उन्हें बचाया जा सके। शासन प्रशासन कार्रवाई का तो निर्देश देते हैं लेकिन कुछ दिन बीतने के बाद इस तरह यह प्राइवेट नर्सिंग होम का धंधा जोर पर चल रहा है।

Jamuna college
Gyan kunj
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *