Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : 26 को होली मनाने का व्यापारियों ने किया एलाउंस

बलिया। जनपद में होली के पर्व को लेकर जनपदवासियों असमंजस की स्थिति बनी हुई है। एक तरफ जिला प्रशासन की ओर से 25 मार्च को होली मनाने की बात कही गयी है। वहीं दूसरी तरफ बालेश्वर मंदिर और भृगु मंदिर सहित जिले के अन्य मंदिरों से ब्राह्मणों द्वारा 100 साल पूरी पंचांग के अनुसार 26 मार्च को होली मनाने के लिये जिलाधिकारी से प्रतिनिधि एसडीएम से उन्होंने अपील की है। हालांकि जिलाधिकारी से मुलाकात नहीं हो पायी लेकिन उन्होंने जिलाधिकारी के नाम से पत्र को एसडीएम को सौंपा

है। वहीं रविवार को जिले के दूसरे व्यापारी गुट के नेताओं ने भी जुलूस निकालकर एलाउंस किया है कि बलिया में 26 मार्च को होली होगी। वहीं भाजपा के नगर अध्यक्ष घनश्याम दास जौहरी ने व्यापारियों के साथ मिलकर नगर भ्रमण किया है और उन्होंने एलान किया है कि बलिया में 26 मार्च को होली होगी। अब ऐसे में लगता है कि बलिया में दो दिन की होली होगी। कुछ लोग 25 को होली मनाने का निर्णय लिये है तो वहीं शास्त्रों के अनुसार ब्राह्मणों ने 26 मार्च को होली मनाने की बात कही है। जबकि 24 दहन 24 मार्च रविवार को 10ः30 बजे रात से होगा।

शास्त्रों के अनुसार 26 को मनायें होली- डा. अखिलेश उपाध्याय
बलिया। इस बार होली की तिथि को लेकर जनपद के लोगों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है। जिला प्रशासन के अनुसार 25 मार्च को होली मनानी है वहीं धर्माचार्यों के अनुसार 26 मार्च को होली का त्योहार है। इसी ऊहापोह की स्थिति को दूर करने के लिये ज्योतिषाचार्य डॉ अखिलेश कुमार उपाध्याय ने तर्क सहित अपना बात कही है।


बताया कि रंगावली होली चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को मनाई जाती है। उदया तिथि के अनुसार, चैत्र माह के कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि 26 मार्च को है। अतः निर्णय सिंधु के अनुसार 26 मार्च को प्रतिपदा तिथि में सूर्याेदय होने के कारण प्रातःकाल होलिका दहन भूमि को प्रणाम कर विभूति धारण की जाएगी। इसके बाद दिन भर होली व वसंत उत्सव मनाया जाएगा। सन्दर्भ में यही निवेदन है कि अपने तर्क के आधार पर शास्त्रीय वचनों का उल्लंघन कभी भी मान्य नहीं हो सकता। होली के लिए शास्त्रों में स्पष्ट विधान किया गया है, तदनुसार ही मनाना चाहिए। वैसे आप उत्सव जब चाहें मनायें, पर होली (वसन्तोत्सव) 26 मार्च को ही है।


होली पर क्या करें…
होलिका दहन का दर्शन अवश्य करे इससे शनि, राहु, केतु के दोष से मुक्ति मिलेगी। होलिका दहन का दर्शन नही कर पाने पर सुबह में जाकर तीन बार परिक्रमा करे। भस्म को पुरुष अपने मस्तक और महिला अपने गले में लगाए जिससे नजर दोष में मुक्ति के साथ ऐश्वर्य में वृद्धि होती है।

Jamuna college
Gyan kunj
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar
Jamuna Ram snakottar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *