Ballia : विलक्षण गुण के कारण कर्पूरी ठाकुर को मिली जननायक की पहचान : उदय नारायण नंद

जननायक कर्पूरी ठाकुर के जयन्ती स्वर्ण जयन्ती के रूप में मनी
बलिया।
आल इण्डिया महापद्मनन्द कम्युनिटी एजूकेटेड एशोसिएशन जनपद बलिया के नेतृत्व में बुधवार को जननायक कर्पूरी ठाकुर के जयन्ती 100वें वर्ष पर स्वर्ण जयन्ती के रूप में सामाजिक न्याय विमर्श गोष्ठी का सफलतापूर्वक आयोजन किया गया।

कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि उदय नारायण नंद प्रदेश उपाध्यक्ष व कार्यक्रम अध्यक्ष नथुनी राम नंद जिला सचिव बलिया नें संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित तथा जननायक कर्पूरी ठाकुर के तैलचित्र पर पुष्प अर्पित कर किया। तत्पश्चात सदन में उपस्थित सभी लोगों ने पुष्प अर्पित किए। कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए मुख्य अतिथि ने कहा कि जननायक कर्पूरी ठाकुर का व्यक्तित्व बहुत ही साधारण था, जिनसे कोई भी कभी भी मिल सकता था, जन सामान्य को सुनने, समझने व उनकी समस्याओं का निराकरण करने तथा उनके दुःख दर्द को अपना बना लेने का विलक्षण गुण था। जिससे उन्हें जननायक की पहचान मिली, और हम आप उन्हें जननायक कर्पूरी ठाकुर के नाम से जानतें हैं। अगले कड़ी में डॉक्टर सुनील ठाकुर ने कहा कि जननायक कर्पूरी ठाकुर को भारत सरकार ने जो भारत रत्न से सम्मानित किया है उसके लिए हम तथा हमारा नाई समाज बहुत ही आभारी हैं मैं भारत सरकार को इस पहल के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद ज्ञापित करते हैं। एलबी शर्मा मंडल अध्यक्ष आजमगढ ने कहा जननायक जी के सुप्रसिद्ध नारा – हक चाहो तो लड़ना सीखो, कदम कदम पर अड़ना सीखो, जीना है तो मरना सीखो का जोशपूर्ण अंदाज में उद्घोष कर सभा को उद्वेलित कर दिया। उन्होंने कहा कि हमारे लिए जननायक जी राजनीतिक चेतना के प्रतीक हैं। संचालन जिला सचिव डा. सुनील कुमार ठाकुर ने किया। अंत में कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे हैं नथुनी राम नंद ने आभार प्रकट किया। इस अवसर पर नित्यानंद ठाकुर, राजेंद्र ठाकुर, रामजन्म ठाकुर, चंद्रहास ठाकुर, विनोद ठाकुर, कौशल ठाकुर, जितेंद्र ठाकुर, महेंद्र ठाकुर, भृगु नाथ ठाकुर, सुभाष ठाकुर, सुमन ठाकुर, श्रीलता ठाकुर, श्रेया ठाकुर आदि उपस्थित रहे।

Leave a Comment