Ballia : पुण्यदायक संयोग में मनाई जाएगी मौनी अमावस्या- अखिलेश कुमार उपाध्याय

बलिया। माघ महीने की माघी अमावस्या या मौनी अमावस्या 9 फरवरी शुक्रवार को व्यतिपात योग के पुण्यदायक संयोग में मनाई जाएगी। इस दिन श्रवण नक्षत्र की उपस्थिति से सर्वार्थ सिद्धि योग का निर्माण हुआ है, जो साधना की सिद्धि के लिए उत्तम होने के साथ इस योग में किए गए सभी कार्य सिद्ध होंगे। परंतु यह योग कृष्ण पक्ष की अमावस्या तिथि को बन रहा है, इसलिए इसमें कोई भी नया शुभ कार्य नहीं होगा।

यह योग सुबह 07ः05 बजे से रात 11ः30 बजे तक रहेगा। साथ ही महोदय योग भी बन रहा है जो सुबह सुबह 8ः04 बजे से शाम 7ः06 बजे तक रहेगा। इस योग में किए हुए स्नान, दान, पुण्य का विशेष फल प्राप्त होता है। इस दिन सूर्य देव चंद्रमा के साथ मकर राशि में विराजमान होने से वर्ष के सभी अमावस्या में यह एकमात्र विशेष अमावस्या होती है। इस संबंध में आचार्य डॉ. अखिलेश कुमार उपाध्याय ने बताया कि इस दिन पवित्र नदियों में स्नान से पाप क्षय होने के साथ अरोग्य में वृद्धि होती है। इस दिन गर्म वस्त्र दान, अन्न दान, पितरों के नाम तर्पण, गुड़, घी, तिल, शहद युक्त खीर गंगा में प्रवाहित करने से पितरों को तृप्ति मिलती हैं जिससे घर में सुख समृद्धि, संतान प्राप्ति, और भाग्य का उदय होता है।

इस दिन तामसिक चीजों का सेवन निषेध
आचार्य डॉ. अखिलेश कुमार उपाध्याय ने बताया कि भगवान शिव को केसर का दूध चढ़ाने से स्वास्थ्य उत्तम होता है और अविवाहित कन्याओं को योग्य वर की प्राप्ति होती है। इस दिन पंचामृत अभिषेक से आर्थिक संकट से मुक्ति, नाग पूजन से कालसर्प दोष से मुक्ति, संध्याकाल में घृत युक्त लाल धागे से दीपक जलाकर तुलसी पूजन से विकट परिस्थितियों से मुक्ति, घी का दीपक जलाने से यमफंद यानी कि मृत्यु के भय से मुक्ति मिल जाती है। यहां तक कि अकाल मृत्यु तक का योग नष्ट हो जाता है। दही, तिल, तामसिक चीजों को खाना इस दिन निषेध है।

Leave a Comment