….. और नगर पालिका ईओ ने तोड़ दी परंपरा, नपा कर्मी हुए फायर

रिपोर्ट तिलक कुमार

बलिया। वैसे नगर पालिका बलिया के ईओ दिनेश कुमार विश्वकर्मा का विवादों से पुराना नाता है। कभी ददरी मेले के कवि सम्मेलन में कमीशनखोरी तो कभी नगर में हैंडपाइप की बोरिंग में गड़बड़झाला तो कभी कर्मचारियों का उत्पीड़न आदि तमाम आरोप लगते आए हैं, लेकिन इस बार नगर पालिका ईओ पर जो आरोप लगा है वह न सिर्फ नगर पालिका के लिए शर्मनाक है बल्कि जनपद के धरोहर शहीद पार्क को भी अपमानित होना पड़ा। दरअसल 15 अगस्त के अवसर पर जब पूरा जनपद झंडारोहण कार्यक्रम में व्यस्त था, उस समय आरोप है कि ईओ दिनेश विश्वकर्मा अपने नगर पालिका में अपने चेंबर पर बैठकर लूटखसोट की योजना बना रहे थे।
नगर पालिका के कर्मचारी भारत भूषण सिंह ने आरोप लगाया कि जब से नगर पालिका का गठन हुआ है। तब से यही परंपरा रही है कि नगर पालिका में झंडारोहण के बाद शहर के मशहूर शहीद पार्क चौक (आजादी के लिए शहीद हुए रणबांकुरों की याद के लिए बनाया गया ऐतिहासिक धरोहर) झंडा फहराया जाता है तथा सेनानियों को सम्मानित किया जाता है। लेकिन इस बार नगर पालिका ईओ ने परंपरा को तोड़ दिया। हर वर्ष की तरह इस साल भी पहले नगर पालिका चेयरमैन अजय कुमार, ईओ दिनेश कुमार विश्वकर्मा की देखरेख में नगर पालिका के कर्मचारियों ने नपा परिसर में झंडारोहण किया। इसके बाद सभी लोग शहीद पार्क की ओर कूच कर गए। लेकिन ईओ नगर पालिका में ही रूक गए। नगर पालिका के कर्मचारी अशोक सिंह का आरोप है कि जब हम लोग शहीद पार्क में पहुंचने के उपरांत ईओ को फोन कर बुलाए तो उन्होंने जरूरी मीटिंग का हवाला देकर आने से इंकार कर दिया। इसके बाद नगर पालिका के कर्मचारी चेयरमैन के नेतृत्व में झंडारोहण किया और सेनानियों को सम्मानित भी किया, लेकिन ईओ के न आने से सारे नगर पालिका कर्मचारी फायर हो गए। ईओ के इस रवैये से न सिर्फ नगर पालिका को शर्मसार होना पड़ा बल्कि शहीद पार्क को भी अपमान होना पड़ा।

इसे भी पढ़े -   Ballia : जिलाधिकारी ने किया जिला पोषण पुनर्वास केंद्र का निरीक्षण

Leave a Comment