Ballia : अजातशत्रु जगन्नाथ चौधरी की मनायी गयी 24वीं पुण्यतिथि


बलिया।
जमीं से जुड़ी राजनीतिक यात्रा शुरू करने वाले जगन्नाथ चौधरी का व्यक्तित्व अप्रतिम था। वे सादा जीवन, उच्च विचार के प्रतीक थे और राजनैतिक संदर्भों में वे समाजवादी योद्धा थे। परित्यक्तों, मजदूरांे और किसानों की पीड़ा को पढ़ने, जानने और उनके साथ दो कदम चलकर दर्द को दूर करने की उनमें अपूर्व क्षमता थी। पंचायतीराज व्यवस्था के निचले पायदान से उच्च शिखर तक पहुंचने वाले एकमात्र राजनेता थे, वाकई वे अजात शत्रु थे। ये शब्द डॉ0 जनार्दन राय के है जो उन्होंने बलिया शहर के कदम चौराहा स्थित जगन्नाथ चौधरी के मूर्ति स्थल पर 24वीं पुण्यतिथि के अवसर पर आयोजित सर्वदलीय श्रद्धांजलि सभा में अध्यक्ष पद से व्यक्त किये। चौधरी जी के प्रतिमा को नमन करते हुए मुख्य अतिथि पं0 रामविचचार पाण्डेय ने उन्हें किसानों का मसीहा बताया और कहा कि वे हाशिए में ंपड़े व्यक्तियांे की पीड़ा से वाकिफ थे। श्रद्धांजलि सभा को जितेन्द्र राम, उमाशंकर पाठक, पंकज पटेल, निर्मल कुमार उपाध्याय और सियाराम यादव ने सम्बोधित किया। पूर्व विधायक दीनानाथ चौधरी ने उपस्थित सभी अतिथियों का स्वागत किया और उषा सिंह एवं अवध बिहारी चौबे आदि वरिष्ठजनों को अंगवस्त्रम् देकर सम्मानित किया। इस मौके पर रामनाथ सिंह, राम नारायण पहलवान आदि ने अपने विचार व्यक्त किये। उमाशंकर पाठक, मुन्ना उपाध्याय, श्विानन्द ओझा, जयशंकर, प्रेमशंकर वर्मा, रमाशंकर तिवारी पत्रकार, डॉ0 विश्राम यादव, जाकिर हुसैन, राजेश पटेल, सूरज समदर्शी, योगेन्द्र प्रसाद यादव आदि ने उपस्थितांे ने उनकी प्रतिमा पर माल्यार्पण किया। चौधरी जी के पारिवारि सदस्य वरिष्ठ अधिवक्ता राजेन्द्र चौधरी ने आभार व्यक्त किया और सभा का सफल संचालन जगन्नाथ चौधरी स्मारक समिति के मंत्री और समर्पित कार्यकर्ता रमाशंकर यादव ने किया।

Leave a Comment