Ballia : फाइलेरिया नेटवर्क सदस्यों ने स्कूली बच्चों को किया जागरूक


10 फरवरी से चलेगा एमडीए अभियान
स्वास्थ्यकर्मी अपने सामने खिलाएंगे दवा
बलिया।
जिले में फाइलेरिया से बचाव और इसमें सामुदायिक सहभागिता को सुनिश्चित करने के लिए विभागीय स्तर पर अनेक प्रयास जारी हैं। इसी कड़ी में शुक्रवार को पंदह ब्लॉक के जगदरा ग्राम के एसपी विद्यालय में उपस्थित 100 बच्चों को फाइलेरिया से बचाव एवं साफ-सफाई के प्रति जागरूक किया गया। इसमें 40 बालक और 60 बालिकाओं ने हिस्सा लिया। जागरूक करने के दौरान फाइलेरिया नेटवर्क सदस्य अर्जुन राम ने छात्र-छात्राओं और शिक्षकों के साथ अपने अनुभव साझा किया। उन्होंने एमडीए दवा सेवन कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए भी प्रेरित किया। उन्होंने अपील की है कि सभी लोग साल में एक बार फाइलेरिया की दवा का सेवन करें। इससे बीमारी से बचाव हो सके और लगातार पांच वर्ष तक साल में एक बार दवा खाने से आने वाली पीढ़ी सुरक्षित रह सकें। उन्होंने कहा कि सिर्फ दो साल से कम के बच्चों, गर्भवती महिलाओं और किसी गंभीर बीमारी से ग्रस्त लोगों को छोड़कर सभी को फाइलेरिया से बचाने के लिये दवा का सेवन करना चाहिए। नेटवर्क सदस्य अर्जुन राम ने बताया कि फाइलेरिया मच्छरों के काटने से होता है। मच्छर गंदगी में पैदा होते हैं। इसलिए इस रोग से बचना है, तो आस-पास सफाई रखना जरूरी है। दूषित पानी, कूड़ा जमा न होने दें, जमे पानी पर कैरोसीन तेल छिड़क कर मच्छरों को पनपने से रोकें, सोने के समय मच्छरदानी का उपयोग करें। इस दौरान प्रबंधक एवं प्रधानाध्यापक रमेश वर्मा एवं अध्यापक सहित अन्य लोग भी उपस्थित रहे। जिला मलेरिया अधिकारी सुनील कुमार यादव का कहना है कि आमतौर पर शुरुआती दिनों में फाइलेरिया के कोई लक्षण स्पष्ट रूप से दिखाई नहीं देते, लेकिन पसीना, सिरदर्द, हल्की ठंड के साथ बुखार का आना, उल्टी आदि के साथ बदन में खुजली और पुरुषों के जननांग और उसके आस-पास दर्द व सूजन की समस्या दिखाई देती है। इसके अलावा पैरों और हाथों में सूजन, हाथी पांव और हाइड्रोसिल (अंडकोषों की सूजन) भी फाइलेरिया के लक्षण हैं। फाइलेरिया न सिर्फ व्यक्ति को विकलांग बना देती है बल्कि इससे मरीज की मानसिक और सामाजिक स्थिति पर भी बुरा प्रभाव पड़ता है। गुरुवार को गणतंत्र दिवस पर जिला चिकित्सालय परिसर में झंडारोहण में उपस्थित समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों, जनसमुदाय को जिला मलेरिया अधिकारी सुनील कुमार यादव ने एमडीए कार्यक्रम में दवा सेवन करने की अपील की। इसके उपरांत गवर्नमेंट इंटर कॉलेज बलिया में भी एनसीसी कैडेट्स और छात्रों को दवा सेवन और जन जागरूकता के लिए संवेदीकृत किया और फाइलेरिया मुक्त जनपद के लिए संकल्प भी लिया। जन जागरूकता के उद्देश्य से ही शहरी क्षेत्र बलिया में माइकिंग और रोड शो कराया गया। इन कार्यक्रमों में सीफार के प्रतिनिधि, पीसीआई के डीसी संजय सिंह, अर्पित कुमार, सहायक मलेरिया अधिकारी निलोत्पल कुमार, मलेरिया निरीक्षक राजकुमार सिंह, एसएमआई कृष्ण कुमार पांडेय आदि ने सहयोग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *