Ballia : अकेले होने के एहसास भर से वृद्धावस्था में बढ़ रहे मानसिक रोगी: वेणुगोपाल झवर

बलिया। रोटरी क्लब बलिया एवं देवा फाउंडेशन वाराणसी के तत्वाधान में रविवार को निशुल्क वृद्धावस्था मानसिक रोग चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। शिविर का उद्घाटन पुलिस अधीक्षक एस आनंद ने किया। उसके बाद चिकित्सा शिविर के मुख्य चिकित्सक डॉक्टर वेणुगोपाल झवर ने वृद्धावस्था के समय होने वाले मानसिक रोगों के बारे में बताते हुए कहा कि आज के समय में 60 साल के बाद मुख्यतः मानसिक रोग अकेलेपन के कारण देखा जा रहा है जिसमें वृद्धजन अकेले होने के एहसास के बारे में सोच सोच कर ही मानसिक विकार बढ़ाते जा रहे हैं। उन्होंने मोबाइल को भी मानसिक बीमारी बढ़ाने का एक कारण बताया। कहा कि मोबाइल पर ज्यादा समय देना और अपने घर में माता-पिता या अन्य उम्रदराज व्यक्तियों क़ो इग्नोर करना भी एक कारण है। ज्यादा देर तक एक जगह बैठे रहना और शारीरिक श्रम का हास भी एक कारण बनता जा रहा है। कार्यक्रम को सफल रूप से क्रियान्वित करने में रोटरी क्लब बलिया के अध्यक्ष रो. अनिल कुमार, सचिव रो. शिखर सहगल का प्रमुख रूप से योगदान रहा। शिविर में कुल 75 व्यक्तियों का रजिस्ट्रेशन हुआ और धीरे-धीरे बढ़ाते हुए करीब 90 व्यक्तियों का चेकअप डॉक्टर वेणुगोपाल झवर एवं उनके साथ आए हुए डॉक्टर धनंजय ने किया। देवा फाउंडेशन की ट्रस्टी डॉक्टर मोहिनी झवर ने सबको साधुवाद देते हुए इस तरह के कार्यक्रम को देवा फाउंडेशन के तत्वावधान में आगे भी कराने का आश्वासन दिया। इस दौरान जिलाधिकारी रविंद्र कुमार ने पहुंचकर शिविर का जायजा लियां। शिविर में मुख्य रूप से रोटरी क्लब बलिया के रोटेरियन हर्ष श्रीवास्तव, रोटेरियन एसएस श्रीवास्तव, रोटेरियन अमिताभ शंकर, रोटेरियन अजीत कुमार, रोटेरियन जियाउल इस्लाम, रोटेरियन मोहम्मद तारिक़ रोटेरियन राजकुमार, रोटेरियन घनश्याम, रोटेरियन अजय कुमार, सत्यजीत गुप्ता सचिव कन्हैया लाल गुप्ता आदि मौजूद थे। संचालन रोटेरियन डॉक्टर जी प्रसाद ने किया।

Leave a Comment