Ballia : विश्व के सबसे बड़े नाट्य समारोह में बलिया से संकल्प संस्था ने की सहभागिता


बलिया।
राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय नई दिल्ली द्वारा प्रत्येक वर्ष विश्व का सबसे बड़ा नाट्य समारोह ’भारत रंग महोत्सव’ का आयोजन किया जाता है, इस आयोजन का 25वां वर्ष है। इस अवसर पर राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय दिल्ली द्वारा भारत जन रंग महोत्सव का आयोजन किया गया। इस आयोजन में पूरे देश से दो हजार संस्थाएं एक साथ एक ही समय पर एक ही नाटक प्रस्तुति देकर एक नया रिकॉर्ड बनाया है। इस समारोह में बलिया जनपद से संकल्प साहित्यिक, सामाजिक एवं सांस्कृतिक संस्था की सहभागिता रही। कलेक्ट्रेट स्थित ड्रामा हाल में ’लो आ गई सोने की चिड़िया’ नाटक की प्रस्तुति की गई और इसे यूट्यूब चैनल पर लाइव किया गया। दो हजार संस्थाओं ने एक ही समय पर इस नाटक का लाइव प्रदर्शन किया है।

ललित प्रकाश द्वारा लिखित इस नाटक का निर्देशध जनपद के सुप्रसिद्ध रंगकर्मी आशीष त्रिवेदी ने किया है। नाटक में दिखाया गया कि हमारा देश कभी सोने की चिड़िया हुआ करता था। हमारे देश में सबसे पहले ज्ञान और विज्ञान का विस्तार हुआ और हमारे देश ने सबसे पहले पूरी दुनिया को जीरो और दशमलव दिया। अध्ययन-अध्यापन का सबसे बड़ा केन्द्र भारत रहा, जिसमें नालंदा विश्वविद्यालय, तक्षशिला विश्वविद्यालय, विक्रमशिला विश्वविद्यालय की बड़ी भूमिका रही।

समय के साथ हमने उसे खो दिया। पुनः अपने गौरवशाली अतीत को जानने और समझने की जरूरत है और ऐसे करके विश्वव स्तर पर भारत को फिर से स्थापित करना है। इसमें यह भी दिखाया गया कि नाट्य विधा के माध्यम से हम लोगों को तमाम सामाजिक बुराइयों के प्रति जागरूक करके एक बेहतर समाज का निर्माण कर सकते हैं।

इसे भी पढ़े -   Ballia : अध्यापक पुत्री अंशु प्रिया का सीनियर साइंटिस्ट के पद पर चयन

नाटक में आनंद कुमार चौहान, अनुपम कुमार पांडेय, आलोक यादव, अमन कुमार वर्मा, कुमार धैर्य, सुप्रिया और शालिनी गुप्ता ने अभिनय किया। मंच परिकल्पना और निर्देशन आशीष त्रिवेदी। मेकअप ट्विंकल गुप्ता, स्मिता पाण्डेय, कॉस्टूम ज्योति, मंच व्यवस्था अरविन्द कुमार गुप्ता एवं अशोक कंचन जमालपुरी का रहा। कार्यक्रम की शुरुआत में वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी अश्वनी तिवारी, मिनिस्ट्रियल कलेक्ट्रेट कर्मचारी संघ के अध्यक्ष कौशल कुमार उपाध्याय, संजय भारती, सुमन्त जी ने दीप प्रज्वलित कर मंच का उद्घाटन किया। कार्यक्रम के दौरान सैकड़ों दर्शक उपलब्ध रहे।

Leave a Comment