Ballia : नवनिर्मित मंदिर में हुआ पंचमुखी हनुमान प्रतिमा का स्थापना


बलिया।
इसारी सलेमपुर में कष्टभंजन श्री पंचमुखी हनुमान प्रतिमा को नवनिर्मित मंदिर में चौथे दिन षोडशोपचार पूजन-अर्चन विभिन्न स्तुतियों के वाचन तथा पुराणोक्त विधि-विधान से स्थापना संपन्न किया गया। सायंकाल के प्रवचन मे जनक यज्ञ मे दशरधथ नन्दनों के मांगलिक विवाह का भरपूर आनन्द दर्शकों ने लिया। स्थापना मंे यजमान सहित क्षेत्र के श्रद्धालु नर-नारी काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थित होकर अपना सर्वाधिक सहयोग समर्पित किए। इसके पूर्व पंचमुखी हनुमान प्रतिमा को नगर भ्रमण कराया गया। शाम को विद्वान पंडितों द्वारा वैदिक मन्त्रोच्चार से प्रतिमा का पुष्पाधिवास फलाधिवास वस्त्राधिवाद तथा गंधाधिवास विधि-विधान से कराया गया। इसके पश्चात प्रवचन में महाराज श्री अमरनाथ जी ने भगवान श्रीराम जी सहित सभी भाइयों के जनकपुर पहुंचने धनुष यज्ञ मंे भाग लेकर जनक जी की प्रतिज्ञा पूरी करके जनकनंदिनी सीता से श्रीराम, उर्मिला से लक्ष्मण, मांडवी से भरत तथा श्रुतिकृति से शत्रुघ्न के विवाह की गाथा में श्रोताओं को मंत्रमुग्ध करते हुए बड़े ही रोचक तरीके से लीला वर्णन बताया। मूर्ति स्थापना मंे जिला पंचायत सदस्य मनीष सिंह, क्षेत्र पंचायत सदस्य नारायण दत्त तिवारी, यजमान डॉ0 सुरेश तिवारी, रामप्रताप सिंह विनय मिश्र, शिवजी तिवारी, रमाशंकर तिवारी वशिष्ठ सिंह इत्यादि सहित सैकड़ों की संख्या में ग्रामीण उपस्थित रहे। प्राण प्रतिष्ठा श्रीरामचरण जी महाराज के हाथांे संपन्न हुआ।

Related posts:

Ballia : सामूहिक विवाह में एक दूजे के हुए 319 जोड़े
Ballia : पूर्व पीएम के गांव इब्राहिम पट्टी में खुलेगा हाईटेक कैंसर इंस्टीट्यूट
Ballia : युवा तुर्क चन्द्रशेखर की याद में 19 अप्रैल को होग हाफ मैराथन
Ballia : अनिल राय के साथ भ्रमण के दौरान उमड़ा जनसैलाब
Ballia : ऐतिहासिक रहा क्षेत्रीय अध्यक्ष का रोड शो
बलिया में कोरोना का कहर बरकरार, दो मौत के साथ इतने मिले पॉजिटिव
Ballia : आपदाओं से निपटने में फेल सरकार कर रही टिफिन पर चर्चा- रमाशंकर राजभर
Ballia : आल इंडिया प्यामे इंसानियत फोरम ने मरीजों में बांटे फल
Ballia: पिछड़े इलाकों में मतदाता जागरूकता कार्यक्रम पर दिया जोर
जलनिकासी सुगम बनाने पर तेजी से हो रही पहल, जिलाधिकारी ने एक बार फिर अभियंताओं संग की बैठक
इसे भी पढ़े -   Ballia : नवमी तिथि को हवन व कुमारी पूजन का होता है विशेष महत्व : डॉ0 अखिलेश उपाध्याय

Leave a Comment