Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : रूफैदा फातिमा ने ब्रिबुक्स रचनात्मक लेखन मंच में अपनी कला का लहराया परचम


सिकंदरपुर (बलिया)।
क्षेत्र के ज्ञान कुंज अकादमी की 11वीं की छात्रा रूफैदा फातिमा ने ब्रिबुक्स रचनात्मक लेखन मंच में अपनी कला का परचम लहराया कर विद्यालय सहित क्षेत्र का नाम रौशन की है। रूफैदा ’’विज्ञान मेला’’ पुस्तक की लेखिका हैं। रूफैदा का जन्म 2 मार्च 2010 को उत्तर प्रदेश के बलिया में हुआ है। इनके पिता का नाम जाहिद अहमद और माता का नाम सबिहा खातून है।
क्या बोली विज्ञान मेला पुस्तक की लेखिका
रुफैदा ने बताया की इस किताब को लिखने में 2 सप्ताह का समय लगा। अपनी जिंदगी में पहली बार मैं किताब लिखी हुं। विद्यालय में 14 नवंबर को चिल्ड्रन डे के दिन चंद्रयान का मॉडल छात्र-छात्राओं द्वारा प्रस्तुत किया जा रहा था तभी मेरे मन में एक जिज्ञासा जागी कि मुझे भी कुछ अलग करना चाहिए फिर मैं पुस्तक लिखने की बात सोची। मेरे स्कूल के अध्यापक व प्रिंसिपल मैम के द्वारा ब्रिबुक्स लेखन मंच के बारे में बताया गया। मैंने ब्रिबुक्स के बारे में गहनता से समझी फिर किताब के लिए अपने विद्यालय के क्लास टीचर सहित अन्य टीचर व प्रिंसिपल मैम से हर टॉपिक पर बात की सबने मेरा बहुत सहयोग किया। मैंने ब्रिबुक्स रचनात्मक लेखन मंच पर देखा की कई प्रदेश के बच्चे का किताब पब्लिश हो रहा है तो मेरा क्यों नही होगा अगर नहीं भी होगा मुझे एक किताब लिखनी चाहिए, कोशिश करने से ही कुछ हासिल होती है और मैं उसी दिन से लिखना शुरू कर दी। इस दौरान मुझे काफी कठिनाइयों का सामना करना पड़ा, लेकिन हर कठिनाइयों को दूर करने के लिए मेरे टीचर, प्रिंसपल, परिजन मेरे साथ खड़े रहे। सबने मुझे यह किताब लिखने में मेरा मार्ग दर्शन दिया और सबसे पहले मैंने हिंदी में लिखकर फिर इसको इंग्लिश में ट्रांसलेट की और आज मेरी जो कामना थी वह किताब पब्लिश होकर पूरी हो गई, जिससे मैं आज बहुत खुश हूं। मेरे माता-पिता को मुझ पर हमेशा भरोसा रहता था, वह लोग बार-बार कहते थे तुम्हारा यह किताब एक दिन जरूर पब्लिश होगी और यह बात मुझे काफी हौसला देती थी। मैं विद्यालय के अन्य छात्र-छात्राओं से भी कहना चाहती हुं की लक्ष्य को हमेशा सामने रखो, उसके अनुसार कार्य करो सफलता एक दिन जरूर आपका कदम चूमेगा।
प्रबंधक डी एन सिंह ने कहा
ज्ञानकूंज एकादमी के प्रबंधक डॉ0 देवेंद्र नाथ सिंह ने कहा कि ज्ञानकुंज में छात्र-छात्राओं को सभी सेक्टर में काम कराया जाता है। जैसे राइटिंग स्टोरी, राइटिंग, मॉडल, साइंस, खेल-कूद, हाल ही में चंद्रयान का प्रोजेक्ट हमारे विद्यालय के बच्चों द्वारा प्रस्तुत किया गया था। इस तरह की एक्टिविटी हमेशा नेशनल व इंटरनेशनल लेवल पर विद्यालय कराता रहता है। अभी कई छात्र-छात्राओं ने अपने प्रोजेक्ट पर कार्य कर रहे है। बहुत जल्द उन लोगों को भी कामयाबी मिलने वाली है। आज 11वीं की छात्रा रुफैदा ने अपनी सोच को बढ़ाकर जो लिखा उसका नतीजा सबके सामने है। इस छात्रा को इस किताब पर 20ः रॉयल्टी मिलती रहेगी।
प्रधानाचार्य सुधा पांडेय बोली
ज्ञान कुंज अकादमी की प्रधानाचार्य सुधा पांडेय ने बताया कि ब्रिबुक्स दुनिया का अग्रणी बच्चों का रचनात्मक लेखन मंच है, जो बच्चों को रचनात्मक लेखन सीखने और अमेज़ॅन जैसे वैश्विक आउटलेट पर अपनी किताबें प्रकाशित करने में सक्षम बनाता है। अत्याधुनिक एएल प्रणाली द्वारा संचालित, ब्रिबुक्स एक ही मंच पर विचार, रचनात्मकता, पुस्तक लेखन, प्रकाशन और बिक्री की पूरी प्रक्रिया को जोड़ती है। लिखने के लिए सभी सोचते हैं लेकिन इनीशिएट करना एक बहुत ही बहादुरी का काम है अगर बच्चा एक बार कर ले जाता है तो उसको सफलता जरूर मिलती है। मुझे भरोसा है की रुफैदा की अगली किताब भी बहुत जल्द पब्लिश होगी। इस कामयाबी को देखकर बाकी छात्र-छात्राओं को भी हौसला मिला है बताया कि सीबीएसई बडिंग राइटिंग प्लेटफॉर्म के नाम से प्लेटफार्म बच्चों के लिए दिया है हमारे यहां के भी बच्चे इस प्लेटफार्म पर रजिस्ट्रेशन कर रहे हैं। वही ज्ञान कुंज अकादमी रूफैदा की इस अद्भुत रचनात्मक कौशल की सराहना करती है और उनके उज्जवल भविष्य की कामना करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *