Ballia : सपा जिलाध्यक्ष राजमंगल का शव पंचतत्व में विलीन


शव देखने उमड़ा जन सैलाब पूरे शहर में पसरा मातम
पूर्व नेता प्रतिपक्ष व पूर्व मंत्रियों के साथ परिवहन मंत्री बैठे रहे शव दफन होने तक
बलिया।
रविवार को सुबह करीब 6ः30 बजे लखनऊ बैकुंठ धाम के पास तेज रफ्तार से चला रहे शव वाहन की टक्कर ने सपा जिलाध्यक्ष राजमंगल यादव को काल के गाल में समाहित कर दिया और दूसरे चला रहे स्कूटी राजेंद्र पांडे अस्पताल में जीवन व मृत्यु के बीच जूझ रहे है। रविवार को करीब 1बजे दिन में पोस्टमार्टम हुआ। जहां पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पूर्व नेता प्रतिपक्ष व राष्ट्रीय महासचिव राजगोविंद चौधरी , फेफना विधायक संग्राम सिंह यादव, शशिकांत चतुर्वेदी व अन्य सपा नेता भी शामिल रहे। राजमंगल का शव शववाहन द्वारा लखनऊ से विसुकिया गांव में रविवार को रात्रि करीब 9रू30बजे जैसे ही पहुंचा उनके घर व गांव के महिलाओं के चित्कार एक बार पूरा गांव व मिलने गए आगंतुकों की भी आंखे नम हो गई। और सबके मुख से दर्द भरे आवाज में एक ही शब्द निकल रहे थे कि इतना लोकप्रिय मृदु भाषी इंसान कैसे काल के गाल समा गया। जो हर व्यक्ति के जुबान पर राजमंगल की सदमा एक पहेली बन गई हो। उनके घर लगभग 1 बजे रात्रि तक आने जाने का लोगांे का तांता लगा रहा, फिर विहान होने के उपरांत गांव व घर के परिवारजनों द्वारा राजमंगल के आवास पर शव लाया गया, जहां से जिला पंचायत के कार्यालय में करीब 11ः 30 बजे लाया गया। इसी क्रम टीडी कॉलेज होते हुए सपा के कार्यालय पर जैसे ही शव पहुंची बेहताशा भीड़ ने राजमंगल अमर रहे, मुलायम सिंह अमर रहें के नारे गुंजायमान रहे। गुजते रहे। लगभग 12 बजे दिन में शव यात्रा करते हुए महावीर घाट (मुक्तिधाम) लेकर पहुंच गए। जहां उनके बेटे रजनीश ने फफक कर मुखाग्नि दी। जहां पूर्व राजस्व मंत्री अंबिका चौधरी, रामगोविंद चौधरी, पूर्व विधायिका मंजू सिंह, संग्राम सिंह यादव, अनिल राय, शशिकांत चतुर्वेदी, सुशील कुमार पांडे (कान्ह जी), बैरिया विधायक जयप्रकाश अंचल, सिकंदरपुर विधायक मो. जियाउद्दीन रिजवी, मोहम्मद जुबेर अहमद, पूर्व विधायक व मंत्री नारद राय, देवरिया के सपा जिलाध्यक्ष, आजमगढ़ के सपा जिलाध्यक्ष, गोरखपुर के सपा जिलाध्यक्ष, लखनऊ समेत अन्य बहुत से जनपद के विधायक व पूर्व पदाधिकारी मौजूद रहे तथा अधिवक्ता गण भी शामिल रहे। इसी दरम्यान भारतीय संस्कृति को जिंदा रखते हुए भाजपा के मंत्री दयाशंकर सिंह भी अपने लाव लश्कर के साथ पहुंच गए। जहां राम गोविंद चौधरी बैठे हुए थे वहा संस्कार का परिचय देते हुए ढाई बजे से लेकर 03ः30 बजे तक उपस्थित रहें और पहुंचते ही बुजुर्ग नेता राम गोविंद चौधरी का मंत्री द्वारा चरण स्पर्श का परिचय देते हुए विपक्षी नेताओं के साथ बैठे रहे तथा उनके पुत्र व परिवार जनों का ढाढस बढ़ाया। लगभग शाम 4 बजे राजमंगल का शव पंचतत्व में विलीन हो गया और सभी लोग अपने अपने गंतव्य स्थल पर पहुंच गए।

Leave a Comment