Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : सनबीम स्कूल में जोशपूर्ण ढंग से हुआ छात्र परिषद का गठन


बलिया।
अनुशासन और दायित्व छात्र जीवन की पहली प्राथमिकता है। उत्तरदायित्व उन्हें उनके कर्तव्यों का बोध कराता है। बलिया जिले के अगरसंडा ग्राम स्थित सनबीम स्कूल अपने छात्रों के सर्वांगीण विकास के लिए न सिर्फ जागरूक है और पूरी तत्परता से प्रयासरत भी रहता है। किशोरावस्था मानव जीवन की सबसे क्रान्तिकारी अवस्था होती है ऐसे में उनकी ऊर्जा का सदुपयोग कराने के लिए सही दिशा निर्देश देकर एक सुसभ्य समाज की स्थापना की जा सकती है तथा उनके भविष्य को सही आकार दिया जा सकता है। इसी उद्देश्य की पूर्ति हेतु तथा विद्यार्थियों में अनुशासन, कर्तव्यबोध की ज्योति जगाते हुए विद्यालय प्रांगण में 7 अगस्त को सत्र 2023-24 हेतु 28 सदस्यों की छात्र परिषद का गठन किया गया, जिसे बतौर मुख्य अतिथि विद्यालय के निदेशक डॉ0 कुंवर अरुण सिंह तथा प्रधानाचार्या डॉ0 अर्पिता सिंह द्वारा उन्हें बैज पहनाकर शपथ दिलाई गयी। इस परिषद में द्वादश कक्षा के हर्षवर्धन यादव 12 वर्ष को हेड बॉय तथा वैष्णवी सिंह 12 वर्ष को हेड गर्ल के रूप में चुना गया।

इसी क्रम में अन्य पदों हेतु क्रमशः हेड प्रीफेक्ट, वाइस हेड प्रीफेक्ट, स्पोर्टस कप्तान, उपकप्तान, कल्चरल हेड, वाइस हेड ,हेल्थ एंड हाइजीन इंस्पेक्टर-सब इंस्पेक्टर हाउस कैप्टन, अनुशासन प्रबंधन, आदि पदों हेतु कक्षा नवम से कक्षा द्वादश के विद्यार्थियों को चुना गया। बता दें कि इस वर्ष विद्यालय में परिषद गठन के साथ ही विषयवार क्रमशः विज्ञान, सामाजिक विज्ञान, गणित एवं भाषा हेतु 4 सदस्यीय विद्यार्थी क्लब का गठन किया गया है, जिसमंे अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, सचिव, उपसचिव पद बनाए गए।

इस अवसर पर क्लब के पदाधिकारियों को भी विद्यालय प्रशासक संतोष चतुर्वेदी एवं हेड मिस्ट्रेस सहर बानो द्वारा बैज पहनाकर उन्हें उनके कर्तव्यों का बोध कराया गया। विद्यालय के निदेशक डॉ0 कुंवर अरुण सिंह ने प्रांगण में उपस्थित समस्त नवनिर्वाचित पदाधिकारियों को उनके पद की गरिमा के निर्वहन की विस्तृत जानकारी दी तथा उन्हें उनके कर्तव्य मन, वचन और कर्म से निभाने की सलाह दी।

श्री सिंह ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि आज के तकनीकी युग में विधार्थी बहुत ही धड़ल्ले से सोशल मीडिया की ओर आकर्षित हो रहे है और उसके दुष्परिणामों के शिकार हो रहे हैं, अतः विद्यार्थियों को अपने हित और अहित के विषय में अत्यंत सजग रहने की आवश्यकता है। साथ ही उन्होंने छात्रों को अपने शिक्षकों के बताए मार्गों का अनुसरण करने की प्रेरणा दी। प्रधानाचार्या डॉ0 अर्पिता सिंह ने सभी चयनित पदाधिकारियों को बधाई देते हुए उन्हें पद की गरिमा बनाए रखने और अपने कर्तव्य के प्रति सजग रहने की सीख दी। अंत में वरिष्ठ समन्वयक पंकज सिंह ने कार्यक्रम को पूर्ण रूप से सफल बनाने हेतु सभी का आभार व्यक्त किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *