Ballia : जन्मजात मूक बधिर बच्चों का हुआ परीक्षण व पंजीकरण


बलिया।
राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम से सम्बद्ध विनायक कॉस्मेटिक सर्जरी एवं लेजर सेन्टर लखनऊ के द्वारा जन्मजात मूक तथा बधिर बच्चो के पंजीकरण शिविर का आयोजन बुधवार को जिला पुरुष चिकित्सालय बलिया में किया गया। इस दौरान विभागीय चिकित्सको एंव विनायक कॉस्मेटिक सर्जरी एंड लेजर सेन्टर की टीम ने बच्चों का पंजीकरण तथा परीक्षण किया, जिसमंे 55 बच्चों का पंजीकरण हुआ। इसमें से 21 बच्चे आपरेशन एवं अन्य जॉच हेतु लखनऊ बुलाये गये। यह जानकरी अपर मुख्य चिकित्साअधिकारी डॉ0 अशोक कुमार ने दी। उन्होंने बताया कि जन्मजात बीमारियों से ग्रसित बच्चों की समस्या व उनके निदान के लिये आर.बी. एस. के. टीम, शिक्षा विभाग तथा आई. सी. डी .एस. विभाग से समन्वय स्थापित कर निरंतर कार्य कर रही है। जो मरीज पंजीकरण तथा परीक्षण का लाभ नहीं उठा पाए है वह अपने ब्लाक की आर. बी. एस. के. टीम से संपर्क कर बाद में भी पंजीकरण करवा सकते है। बाल रोग विशेषज्ञ डॉ ए.के. उपाध्याय ने बताया कि यह जन्म जात मूक-बधिरता को माता पिता शुरुवाती दौर में इस बीमारी को नहीं समझ पाते है। समय से उचित चिकित्सीय परामर्श न मिलने से इस बीमारी का इलाज मुश्किल हो जाता है। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम के प्रभारी डी ई आई सी मैनेजर डॉ0 संतोष कुमार मिश्रा ने बताया कि जिलाधिकारी रवींद्र कुमार के निर्देश पर मुख्य चिकित्साधिकारी के मार्ग दर्शन में इस कैम्प का आयोजन किया गया था। भविष्य में भी इस तरह के शिविर जन-मानस की भलाई के लिए लगाए जाएंगे। परीक्षण एवं पंजीकरण को सफल बनाने में विनायक कॉस्मेटिक सर्जरी सेंटर के रमेश अवस्थी सहित उनकी टीम, शिक्षा विभाग के संजय मिश्रा, आई सी डी एस विभाग के कार्यकत्रियों, आर बी एस के टीम के डॉ0 बरमेश्वर सिंह, डॉ0 कन्हैया ओझा, डॉ0 बद्री यादव, डॉ0 तारिक खान, डॉ0 आनंद सिंह, डॉ0 प्रशांत सिंह, डॉ0 शगिर हसन, डॉ0 नेहाल अहमद, डॉ0 विनोद कुमार सहित उपस्थित सभी चिकित्सकों सहित जनपद की समस्त टीमांे के सदस्यों का योगदान रहा।

इसे भी पढ़े -   दुबारा प्रमुख बनने के लिए इस प्रत्याशी ने झोंकी ताकत, पत्नी के माथे रखना चाहते है ताज

Leave a Comment