Ballia : दिल्ली में जेपी नड्डा के हाथों हुई अमृतकाल की ओर पुस्तक का विमोचन, बलिया में जमकर प्रशंसा

रोशन जायसवाल,

बलिया। राजनीति नहीं राष्ट्रनीति पर आधारित विरासत से विकास के पथ पर अग्रसर है प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सरकार, पंच प्रण के ज्ञान (गरीब, युवा, अन्नदाता और नारी को लेकर 2047 तक विकसित भारत बनाने के लिये आगे बढ़ रही है।

उक्त उदगार जननायक चन्द्रशेखर विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.संजीत कुमारगुप्त ने डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी रिसर्च फाउंडेशन

द्वारा आयोजित अमृतकाल की ओर पुस्तक पर केंद्रित परिचर्चा विरासत और विकास पर रखते हुए व्यक्त किए।


आचार्य नरेन्द्रदेव सभागार में सम्पन्न परिचर्चा का शुभारंभ डॉ.श्यामाप्रसाद मुखर्जी और पं.दीनदयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण

और दीप प्रज्ज्वलन कर मुख्य अतिथि कुलपति, मुख्य वक्ता और पुस्तक के सम्पादक शिवानंद द्विवेदी ने किया।

मुख्य वक्ता शिवानंद द्विवेदी ने कहा कि अयोध्याधाम में रामलला विग्रह के विराजमान होने से लेकर कश्मीर से धारा 370 की समाप्ति के बाद जम्मू-कश्मीर में लौटी खुशहाली और विकास के साथ-साथ भाजपा सरकार की राष्ट्रनीति पर विस्तार से बताया।


सांसद रविन्द्र कुशवाहा ने अमृतकाल में भारत के नौ वर्ष दस माह मे हुये समग्र विकास पर प्रकाश डाला।

परिचर्चा को साहित्यकार डॉ. जनार्दन राय, पूर्व मंत्री राजधारी सिंह, पूर्व विधायक भगवान पाठक,

पूर्व भाजपा जिलाध्यक्ष विनोद शंकर दूबे, विजय बहादुर सिंह, जयप्रकाश साहू ने भी संबोधित किया।

परिचर्चा की अध्यक्षता सलेमपुर सांसद रविन्द्र कुशवाहा ने और संचालन डॉ.शिवकुमार सिंह कौशिकेय ने किया।

इस अवसर पर राजीव मोहन चौधरी, सुनील सिंह सांसद प्रतिनिधि, केशव चौधरी ब्लाक प्रमुख, सुरेन्द्र सिंह आदि उपस्थित रहे।

Leave a Comment