Ballia : परिषदीय विद्यालयों को हाईटेक बनाने के लिए विभाग ने लिया अनोखा फैसला


बैरिया (बलिया)।
परिषदीय विद्यालयों को निजी विद्यालयों की तरह हाईटेक बनाने के लिए विभाग ने अनोखा फैसला लिया है। ऐसे में निगरानी के लिए ब्लॉक संसाधन केंद्रांे पर आईसीटी लैब सक्रिय किए जाएंगे। लैब के प्रोजेक्टर के साथ कंप्यूटर भी लगेगें। इस बावत का आदेश बेसिक शिक्षा परिषद द्वारा संबंधित अधिकारियों व कार्यालय को प्रेषित कर दिया गया है। आईसीटी लैब के माध्यम से छात्रों को हर विषय का कंप्यूटर के माध्यम से डिजिटल पढ़ाई कराई जाएगी। इसमें सप्ताह में हर विषय का कम से कम एक क्लास आईसीटी लैब में ही लगेगा। इसके अलावा रजिस्टर भी बनाया जाएगा। आईसीटी लैब में कंप्यूटर के माध्यम से पढ़ाये जाने वाले विषयों व रजिस्टर का डिटेल संस्था प्रधान से सत्यापित कराकर कार्यालय में भेजा जाएगा। आईसीटी लैब क्लास के दौरान छात्र-छात्राओं को एजुकेशन वीडियो के माध्यम से विषयों की जानकारी दी जाएगी। इसके अलावा सैटेलाइट प्रसारण के माध्यम से छात्र-छात्रों को समय-समय पर विषय विशेषज्ञ भी पढ़ाएंगे। आईसीटी लैब निजी स्कूलों के स्मार्ट कक्षाओं को टक्कर देने के लिए शुरू किया गया है, ताकि सरकारी स्कूलों में छात्र पढ़ें, और आगे बढ़े। खंड शिक्षा अधिकारी पंकज मिश्रा ने बताया कि बैरिया और मुरली छपरा के दो दर्जन विद्यालयों को इसके लिए चयनित किया गया है। जहां ब्लॉक संसाधन केंद्रों आईसिटी लैब बनाकर विभिन्न विषयों को पढ़ने के लिए उसका उपयोग किया जाएगा। यह सुनिश्चित करने के लिए की स्कूलों में उपस्थित रजिस्टर का पूरा ब्योरा रखा जाए। सप्ताह में एक दिन एक विषय का एक समय पढ़ाई आईसीटी लैब में होगा। विषय शिक्षक इसका रिकॉर्ड संस्था प्रधान से सत्यापित करायेगें। लैब में कंप्यूटर लगाने के साथ प्रोजेक्टर भी लगाया जाएगा। इससे लैब शिक्षक छात्रों को पढ़ाएंगे ही नहीं। बल्कि सरकारी कामों को आसानी से निपटा सकेंगे। ब्लॉक संसाधन केद्रो से सभी संबंधित विद्यालयों की निगरानी भी की जा सकेगी। इस बाबत पूछने पर खंड शिक्षा अधिकारी मुरली छपरा दुर्गा प्रसाद सिंह ने स्पष्ट किया है कि आदेश प्राप्त हो गया है। समान प्राप्त होते ही क्लास शुरू कर दिया जाएगा।

Leave a Comment