Ballia : … और नेताजी ने साधी चुप्पी

जिसका करते थे विरोधी उसी का कर रहे समर्थन
रोशन जायसवाल,
बलिया।
राजनीति में कब क्या हो जाए यह बताना बडा मुश्किल हो रहा है। क्योंकि नेता जी ने चुप्पी साध ली है। मीडिया के लोग उनसे सवाल पूछ रहे है तो वह जवाब न देकर यह कहते नजर आ रहे है कि अभी वक्त आने दीजिये तस्वीर साफ हो जाएगी। वैसे नेताजी फेफना विधानसभा क्षेत्र के एक गांव के रहने वाले है और बलिया लोकसभा चुनाव के लिये जबरदस्त प्रयास में लगे हुए है। वैसे वह सपा मुखिया अखिलेश यादव के भी करीब है। लेकिन उनकी पार्टी एनडीए में शामिल हो गयी है। अब ऐसे में नेताजी की राजनीति किस करवट लेगी यह बताना मुश्किल हो रहा है। वैसे नेताजी लखनऊ और बलिया से पटना तक लाव लश्कर के साथ पहुंचते है। नीतिश की तीर लालू के लालटेन के साथ लगभग डेढ़ साल तक थी। उसके बाद तीर कमल के साथ हो गयी। सरकार ऐसी बदली कि किसी को इसका अंदाजा नहीं था कि बिहार की तीर कमल के साथ हो जाएगी। आगामी लोकसभा चुनाव में नेताजी तीर के साथ होते है या किसी और के साथ, वैसे नेताजी के पार्टी में बगावत शुरू हो चुकी हैं क्योंकि उनकी पार्टी से कई नेता इंडिया गठबंधन को समर्थन कर रहे हैं। वैसे चर्चा यह है कि नेताजी चुप्पी तोड़ेंगे और साइकिल की तरफ बढ़ेंगे।

Leave a Comment