Ads

1 / 3
Caption Text
2 / 3
Caption Two
3 / 3
Caption Three
3 / 3
Caption Three

Ballia : शांत चित्त में ही होता है परमात्मा का अवतरण: प्रेम भूषण जी महाराज


बलिया।
बाबा बालखंडी नाथ जी के मंदिर पर चल रहे रामकथा में प्रेम भूषण जी महाराज ने प्रभु श्रीराम के जन्म की कथा सुनाई। प्रदेश सरकार के परिवहन मंत्री व नगर विधायक दयाशंकर सिंह के संकल्प से बाबा बालखंडी नाथ जी मंदिर के प्रांगण में चल रहे संगीतमय दिव्य श्रीराम कथा में सुप्रसिद्ध कथावाचक संत प्रेम भूषण जी महाराज के श्रीमुख से तीसरे दिन श्रीराम जन्म की कथा संपन्न हुई। पूज्य महाराज जी ने कहा कि माता पार्वती ने भगवान शिव से प्रश्न किया कि ब्रह्म निर्गुण हैं तो उन्हें सगुण होने की आवश्यकता क्यों पड़ी। तब भगवान शिव ने उत्तर दिया कि सगुण व निर्गुण दोनों एक ही है।

भक्तों के निवेदन पर उनके आनंद के लिए परमात्मा सगुण रुप धारण करते हैं। विप्र, धेनु, सुर, संत हेतु प्रभु लिन्ह मनुज अवतार। पूज्य महाराज जी ने कहा कि बोध के द्वारा हमारी कामनाओं का शमन होता है। इससे व्यक्ति का चित्त शांत रहता है और शांत चित्त में ही परमात्मा का अवतरण होता है, क्योंकि परमात्मा शांताकार हैं। श्रुति, वेद, पुराण के अनुसार जीवन जीने वाला व्यक्ति ही धार्मिक है और इसके विरुद्ध आचरण करने वाला अधार्मिक।

श्रीराम कथा के तीसरे दिन मंत्री दयाशंकर सिंह की माताजी ने कथा का श्रवण किया। श्रीव्यास पीठ पर महाराज जी के आसन लेने व पूज्य श्री ठाकुर जी के स्थापना के बाद आयोजन समिति के प्रमुख जयराम सिंह व धर्मेंद्र सिंह ने पीठ का पूजन किया। कथा में बब्बन सिंह रघुवंशी, ददन तिवारी, श्रीकांत चौबे, प्रेमप्रकाश सिंह पिंटू, रणविजय सिंह, अनिल पांडेय, सुरजीत सिंह परमार, हेमंत पाठक आदि मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *